“जल है तो कल है।” – सदगुरू आश्रम शाळा इस्लामपूर

पानी इस कुदरत की अनमोल देन को खत्म होने से बचाना है। पानी के बिना हमारा जीवित रहना असंभव है। बिना खाए इन्सान कुछ हफ्ते जिंदा रह सकता है, मगर पानी के बिना कुछ दिन भी जीवित नहीं रह सकता।
गाँव में दो साल बरसात न होने की वजह से पानी की कमी से लोग त्रस्त हो रहे थे। एक दिन पानी का टैंकर आया था। पूरा मोहल्ला हाथ में छोटी-बड़ी बाल्टियां लेकर जैसे टैंकर की ओर दौड़ने लगा। कुछ ही लोग पानी भर पाए थे कि एकाएक लोग आपस में झगड़ने लगे। पानी के लिए कुछ लोगों ने बीचबचाव करके बड़ी मुश्किल से मामला सुलझाया।
पानी बिना होने वाली परिस्थिति का सामना ही क्यु करे इसलिए सभी मिल कर एक बात पर राजी हुए और कहा…. चलो, क्यूं न हम पानी की बचत का अभियान छेड़ते हैं।’’ बस, फिर क्या था विवेक और विकास के सभी बच्चे, परिवार समित जुड़ते गए। पानी बचत की मोहिम शुरू हो गयी।…
“जल है तो कल है।”
… Softech Computer Training Center Islampur.

Date :- 15/03/2016 -Sadaguru Ashram Shala, Islampur

7061_1350800941612773_398723427854772600_n

9742_1350800671612800_1260812801648662304_n

1485092_1350800424946158_8005868043613437988_n (1)

1620684_1350800548279479_4486836884274271374_n

1625776_1350800634946137_8597591005463485573_n

10360703_1350800904946110_7038110036107339207_n

10395842_1350800698279464_5516531569583405805_n

10599172_1350800591612808_6042157140369155206_n

11665464_1350800521612815_5074473352693511913_n (1)

12791051_1350800484946152_1069867913504332249_n

12832464_1350800448279489_1986405049636892052_n (1)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


7 + eight =

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>